हिंदू हूं, पर मैं नहीं हुई अपमानित, फिर ‘Tandav’ पर क्यों बैन?- स्वरा भास्कर का ट्वीट, लोग करने ऐसे कमेंट्स

0
18

 

स्वरा भास्कर ने वेब सीरीज तांडव का समर्थन करते हुए कहा कि वो भी एक हिंदू हैं लेकिन उनकी भावनाएं तांडव के किसी सीन से आहत नहीं हुई। उनके इस बात पर यूजर्स उन्हें जमकर ट्रोल करने लगे और कहने लगे कि…

swara bhaskar, web series tandav controversy, swara bhaskar twitter
स्वरा भास्कर ने ‘तांडव’ का समर्थन किया है

 

वेब सीरीज ‘तांडव’ को लेकर भारी विवाद मचा हुआ है। इसके मेकर्स और एक्टर्स पर यूपी में कई जगह एफआईआर भी दर्ज़ किए जा चुके हैं। इस वेब सीरीज पर यह आरोप है कि इसके कुछ सीन्स में हिंदू देवी- देवताओं का मखौल उड़ाया गया है और जातिगत विभाजन को बढ़ाने की कोशिश की गई है। देश का एक वर्ग इस वेब सीरीज पर रोक लगाने की मांग कर रहा है। बीजेपी के कई नेता भी इस सीरीज पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर चुके हैं। इस सीरीज के मेकर्स और एक्टर्स ने विवाद बढ़ता देख बिना शर्त माफी भी मांगी है लेकिन इसका विरोध कर रहे लोगों पर कुछ असर होता नहीं दिख रहा।

 

इसी बीच बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने इस वेब सीरीज का समर्थन कर ट्रोल्स को न्योता दे दिया है। उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा, ‘मैं एक हिंदू हूं और तांडव के किसी भी सीन पर मैंने अपमानित नहीं महसूस किया। फिर तांडव को बैन क्यों किया जाए?’ उनके इस ट्वीट के बाद तो जैसे लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया हालांकि कुछ लोगों ने उन्हें समर्थन भी दिया। खालिद बैग ने कहा, ‘अगर आप हिंदू हैं तो मैं डॉन ब्रैडमैन हूं।’

क्रूसेडर अगेंस्ट धर्म नाम के एक यूज़र ने लिखा, ‘क्या आप सोचती हैं कि आप हिंदू हैं? आप उन लोगों में से हैं जिनका पैसे के अलावा कोई भगवान नहीं होता। आप पैसे के लिए कुछ भी कर सकती हैं।’ PSR नाम से एक यूजर लिखते हैं, ‘मैं एक हिंदू हूं और मैं अपमानित महसूस करता हूं जब आप ये कहती हैं कि आप हिंदू हैं।’

रेइन ने लिखा, ‘तुम मुझे रिप्रेजेंट नहीं करती। मैं एक हिंदू हूं और तांडव को देखकर मैंने अपमानित महसूस किया है।’ प्रदीप धीमान ने लिखा, ‘हिंदू तो कांग्रेसी भी हैं। इसका मतलब यह नहीं कि वो इस सीरीज का बहिष्कार करेंगे। मात्र हिंदू होने से कोई फर्क नहीं पड़ता, अगर आपके अंदर हिंदू धर्म के प्रति संस्कार होते तो आपको फर्क जरूर पड़ता।’

ओनली तुषार नामक यूज़र ने लिखा, ‘इतने भी मॉडर्न न बनिए कि कोई आपके धर्म का मज़ाक बनाए और आप उसके साथ बैठकर ताली बजाए। जब धर्म ही नहीं रहेगा तो आप कहां रहेंगे।’

 

 

–>

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here