लखनऊ। एंटी करप्शनट ऑर्गेनाइजेशन भ्रष्टाचार निवारण संगठन के एसएसपी राजीव मल्होत्रा की ट्रैप टीम ने एक ऐसे घूसखोर मुरादाबाद जीआरपी थाने के दरोगा को 20 हजार रुपए की रिश्वत के साथ रंगे हाथों गिरफ्तार किया है जिसने एक महिला के द्वारा रेलवे के टिकट चेकिंग अधिकारी के खिलाफ दर्ज कराए गए छेड़छाड़ के मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाने के एवज में डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी।

20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया घूसखोर दरोगा

भ्रष्टाचार निवारण संगठन की मुरादाबाद इकाई के इंस्पेक्टर विजय कुमार सिंह की ट्रैप टीम ने घूसखोर दरोगा मुरादाबाद जीआरपी थाने में तैनात चंद्रपाल सिंह को मुरादाबाद रेलवे स्टेशन के बाहर से 20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। एंटी करप्शन ऑर्गेनाइजेशन के एसएसपी राजीव मल्होत्रा ने बताया कि गुरुग्राम 20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया घूसखोर दरोगा पुराना राजपुरा पटियाला के रहने वाले कोमल कृष्ण की शिकायत पर घूसखोर दरोगा को गिरफ्तार किया गया है।

श्री मल्होत्रा के अनुसार शिकायतकर्ता ने बताया कि 14 नवंबर 2021 को कोमल कृष्ण की ड्यूटी आनंद विहार से सुल्तानपुर तक जाने वाली रेलगाड़ी पर थी जिसमें उन्होंने शबनम खातून नामक महिला का टिकट चेक किया जिस पर टिकट नहीं मिला तो उन्होंने 550 रुपए का जुर्माना लगाते हुए महिला से जुर्माना अदा करने के लिए कहा तो शबनम नामक उस महिला के द्वारा सिर्फ 500 का जुर्माना अदा किया गया और महिला शबनम के द्वारा कोमल कृष्ण को धमकाते हुए देख लेने की धमकी दी गई थी ।

दूसरे दिन उसी महिला के द्वारा सुल्तानपुर के जीआरपी थाने में कोमल कृष्ण के खिलाफ छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज कराया गया जो मुकदमा स्थानांतरित होकर मुरादाबाद जीआरपी थाने आया जिसकी विवेचना मुरादाबाद जीआरपी थाने के उपनिरीक्षक चंद्रपाल सिंहको सौंपी गई थी।

एसएसपी राजीव मल्होत्रा के अनुसार शिकायतकर्ता का आरोप है कि उप निरीक्षक चंद्रपाल सिंह ने उनसे मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाने के लिए डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी जिसमें उनका सौदा 50 हजार रुपए में तय हुआ था 20 हजार की पहली किस्त कोमल कृष्ण के द्वारा घूसखोर दरोगा को मुरादाबाद रेलवे स्टेशन के बाहर दी गई तभी उनकी टीम के इंस्पेक्टर विजय कुमार सिंह ने घूसखोर दरोगा को रिश्वत की रकम के साथ रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।

महिला शबनम खातून के द्वारा छेड़छाड़ के मुकदमे में आरोपी बनाए गए टिकट चेकिंग अद्धिकारी कोमल कृष्ण का कहना था कि उनके खिलाफ महिला ने मुकदमा फर्जी दर्ज कराया था क्योंकि उन्होंने उस महिला पर जुर्माना लगाया और जुर्माना लगाने के बाद महिला ने उन्हें देख लेने की धमकी दी थी। रिश्वत की रकम के साथ गिरफ्तार किए गए घूसखोर दरोगा चंद्रपाल सिंह के खिलाफ विभागीय कार्यवाही भी होगी ही। एसएसपी राजीव मल्होत्रा की ट्रैप टीमें लगातार भ्रष्टाचारियों पर शिकंजा कस रही हैं और एक के बाद एक घूसखोर चाहे वह पुलिस विभाग का हो या किसी अन्य विभाग का भ्रष्टाचार निवारण संगठन की टीमें पूरी मुस्तैदी के साथ उन्हें रंगे हाथों पकड़ कर हवालात में पहुंचा है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here